28.1 C
Delhi
Sunday, September 26, 2021
spot_img

Madhya Pradesh: महेश्वरी साड़ी उद्योग पर कोरोना की मार, मजदूरी करने और सब्जी बेचने को मजबूर बुनकर


MP: ”पत्नियों से लड़कर आते हैं अफसर, कब्ज रहती है, क्रिमाफिन+ सीरप दें”, वेतनमान पर डॉक्टरों का अधिकारियों पर कटाक्ष

बुनकरों के पास माल तैयार है, लेकिन मांग नहीं है, 80 फीसद कामकाज प्रभावित हुआ है. महेश्वर देवी अहिल्या की पवित्र नगरी पर्यटकों और विदेशी सैलानियों से भरी रहती थी. फिल्मों की शूटिंग का दौर भी चला करता था. कोरोना की वजह से यहां सैलानियों एवं विदेशी पर्यटकों का आना-जाना कम हो गया है. ऐसे में महेश्वरी साड़ियां बेचने वाली दुकानों में रौनक नहीं है. कपड़ों के कई शोरूम बंद हो गए, जो चल रहे हैं, वहां खरीदार नहीं है. हैंडलूम कारोबारी भी परेशान हैं.

कारोबारी वारिस अंसारी कहते हैं, ‘मेरे यहां 25 से 30 बुनकर काम करते थे. लॉकडाउन के बाद से अब तक काम नहीं मिल पा रहा था. आज वह बंद हो गए हैं. मटेरियल का रेट बढ़ गया है. मेरे द्वारा हैंडलूम वर्क से बनाई हुई साड़ियां, सूट हथकरघा विभाग में एवं वस्त्रालय मंत्रालय द्वारा खरीदी जाती थी. ऑर्डर आना बंद हो गए हैं. पहले हम 100 परसेंट काम करते थे, आज 25 परसेंट काम रह गया है. दैनिक स्थिति बिगड़ चुकी है.’

महेश्वर में 3247 हैंडलूम थे जिसमें 9360 बुनकर और सहायक काम कर रहे थे. यहां 3 लघु हैंडलूम इकाइयां कार्यरत हैं. लेकिन कोरोना की वजह से 80 फीसद कामकाज प्रभावित हो गया. हथकरघा सहायक प्रबंधक श्याम रंजन सेन गुप्ता बताते हैं, ‘बहुत सारे लूम बंद हो गये. लॉकडाउन खुल भी गया तो बाजार में उठाव धीरे आ रहा है. कुछ लोग छोड़कर दूसरा काम करने लगे हैं, गारा मिट्टी का काम कर रहा है, सब्जी बेचने लगा. विभाग से हमने कहा है इनके हेल्प के लिये कुछ किया जाये, कर भी रहा है.’ महेश्वरी साड़ियों होती तो प्लेन हैं लेकिन बॉर्डर पर फूल, पत्ती, बूटी, हंस, मोर की सुन्दर डिजाईन होती है, पल्लू पर 2-3 रंगों की मोटी-पतली धारियां होती हैं. पहले ये प्राकृतिक रंगों से बनती थीं, अब कृत्रिम.

पहले इसे बनाने में सुनहरे रेशमी धागे लगते थे, अब तांबे जैसे कृत्रिम धागे. चीन से आयातित रेशम मिलने में दिक्कत थी, सो अब देसी रेशम से साड़ियां बन रही हैं. महेश्वर में साड़ी के अलावा, सलवार सूट, दुपट्टे, स्टाल, रनिंग क्लॉथ भी बनते हैं, जिसके लिए कॉटन का धागा कोयंबटूर, सिल्क का धागा बेंगलुरु, जरी सूरत और कलर डाई महाराष्ट्र से मंगाई जाती है.

ग्वालियर चिड़ियाघर में सफेद बाघिन बनी दो बच्चों की मां, एक सफेद और एक पीले शावक को दिया जन्म

कहते हैं कभी अहिल्याबाई ने कुछ मेहमानों को तोहफा देने के लिये बुनकरों को सूरत, मालवा, हैदराबाद जैसे शहरों से बुलवाया, खुद साड़ी को डिजाइन करवाया जिसकी वजह से इसका नाम उनकी राजधानी महेश्वर के नाम पर पड़ा. महेश्वरी साड़ी थोड़ी महंगी होती है, एक अच्छी साड़ी 2000 रुपये से नीचे नहीं मिलती. लेकिन बनारसी और कांजीवरम के मुकाबले बहुत सस्ती. इसलिये जो पहले राजे रजवाड़ों का शौक था अब आम लोगों का भी बन गया.
 



Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0FollowersFollow
- Advertisement -

Latest Articles