28.1 C
Delhi
Friday, September 24, 2021
spot_img

जिम में ज्यादा पसीना बहाने से क्या सेहत को है नुकसान? जानें एक्सपर्ट की राय


harmful side effect of excessive exercise : सिक्स पैक जैसी बॉडी दिखाना आज के युवाओं का पैशन बन गया है. अधिकांश शहरी युवा अपने बॉडी एपियरेंस को लेकर ज्यादा अलर्ट हो गए हैं. इसके लिए वे घंटों जिम में पसीना बहाते हैं और बॉडी बनाने के लिए बेतरतीब सप्लीमेंट तक लेने से गुरेज नहीं करते. कुछ लोगों को जिम का ऐसा चस्का लग जाता है कि एक दिन भी बिना जिम गए वह रह नहीं पाते. उन्हें बेचैनी होने लगती है. आमतौर पर यह माना जाता है कि जिम में पसीना बहाने से सेहत अच्छी रहती है लेकिन ज्यादा देर तक जिम में पसीना बहाना भी नुकसानदायक हो सकता है. सेंट स्टीफन अस्पताल, दिल्ली में फिजियोथेरेपी विभाग के सीनियर कंसल्टेंट डॉ जैकब कुरियन (Dr Jacob Kurien) ने बताया कि जिम में एक नियत समय से ज्यादा देर तक एक्सरसाइज करना सेहत के लिए कई तरह से नुकसानदेह हो सकता है. इससे ड्राइविंग करने में भी परेशानी हो सकती है.

इसे भी पढ़ेंः कोरोना संक्रमण के बाद युवाओं के फेफड़े पहले जैसे ही हुए सक्रिय – रिसर्च

ड्राइविंग में ध्यान केंद्रित करना हो जाता है मुश्किल
डॉ जैकब कुरियन ने कहा, ज्यादा देर तक एक्सरसाइज करने से ब्लड प्रेशर अधिक हो जाता है और खून में शुगर की मात्रा गिरने लगती है. इससे हाइपोग्लीसिमया (hypoglycemia) हो सकता है. इस स्थिति में ब्रेन की काम करने की क्षमता कम होने लगती है. यानी ब्रेन की जो पहले से शक्ति होती है, वह कम हो जाती है. इसका नतीजा यह होता है कि ज्यादा देर तक जिम करने वाले लोग किसी दूसरी चीज पर एकाग्र (concentrate) नहीं हो पाते हैं. अगर हाइपोग्लीसिमया हो जाए तो ड्राइविंग में भी परेशानी हो सकती है, क्योंकि हमारे दिमाग को एकाग्र होने में समय लगता है.

मसल्स में कैल्शियम जमा होना
ज्यादा जिमिंग का सबसे बुरा परिणाम मांसपेशियों (muscle) पर पड़ता है. इससे वियर एंड टियर (wear and tear) की समस्या हो सकती है. यानी मांसपेशियों में टूट-फूट हो सकती है. एक्सेस एक्सरसाइज के कारण मसल्स पेन और मसल्स स्ट्रेन आम बात है. दरअसल, हड्डी (Bone) और मांसपेशियां एक-दूसरे से जुड़ीं होती हैं. हड्डी के ऊपर कवरिंग होती है. जब एक्सेस एक्सरसाइज की जाती है, तब सबसे ज्यादा जोर मांसपेशियों पर पड़ता है. मांसपेशियों पर अत्यधिक दबाव के कारण हड्डियों में जो कवरिंग होती है, वह फट जाती है. कवरिंग के फटते ही हड्डियों में मौजूद कैल्सियम का मांसपेशियों में जमाव (deposition) शुरू होने लगता है. इससे मांसपेशियों के अंदर ही हड्डी बनने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है. इसे मायोसाइटिस ओसिफिकेंस (Myositis Ossificans) कहते हैं.

इसे भी पढ़ेंः टेंशन, एंजायटी नहीं छोड़ रहे पीछा तो करें ये 5 आसान उपाय, बेहद प्रभावी हैं ये आयुर्वेदिक टिप्‍स

सोने का पैटर्न भी हो जाता है खराब
डॉ कुरियन ने बताया कि ज्यादा देर तक एक्सरसाइज करने से मानसिक परेशानी भी हो सकती है. इस स्थिति को इमोशनल हैबिचुएशन (emotional habituation) कहते हैं. ऐसा होने पर व्यक्ति हमेशा जिम वाली धुन में सवार रहता है. वह जिम के अलावा कुछ सोचता ही नहीं. ऐसे व्यक्तियों का अन्य कामों में मन नहीं लगता. ज्यादा जिम करने वाले लोगों में सोने का पैटर्न भी बिगड़ जाता है.

शरीर के अंदर आवश्यक हार्मोन में असंतुलन आ जाता है. ज्यादा एक्सरसाइज के कारण मसल्स से टॉक्सिन निकलने लगते हैं जो किडनी और लीवर पर असर डालते हैं. इससे मेटाबोलिज्म की प्रक्रिया में भी असंतुलन आ जाता है. एक्सेस एक्सरसाइज करने वालों में इंज्युरी होने का जोखिम ज्यादा रहता है. अगर इंज्युरी होती है तो रिकवरी होने में भी बहुत समय लगता है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0FollowersFollow
- Advertisement -

Latest Articles